मोरनी

Peacock

उमंग ने राह ली तुम्हारे रस्ते — धूप को चेहरे पर लपोता, निकल पड़ा, खोंसे कान में एक मोर का टूटा पंख। मैं तो शायद मोर हूं तुम्हारे लिए, पर अबकी बार बरसात ही नहीं होती। *** Find the art here.